Shishe ke daani

शीश के दानी तेरे चरणों में हम अपना शीश झुकाते हैं,
और कहीं झुकने ना देना ये अरदास लगाते हैं।
।। जय श्री श्याम।।