Ghanghor andhera

घनघोर अँधेरा ओढ़ के मैं जन जीवन से दूर हूँ,
श्मशान में हूँ नाचता मैं मृत्यु का ग़ुरूर हूँ।