Yeh nasha kisi

ये नशा किसी शीशी का नही जो उतर जाये,
ये नशा नाथो के नाथ भोलेनाथ का हैं, जो चढ़ता ही जाय।