Thoda sa guroor bhi

थोड़ा सा गरूर भी जरूरी हैं जीने के लिए
ज्यादा झुक के मिलो, तो दुनिया पीठ को पायदान बना देती हैं।