Subh kaaryo me

शुभ कार्यों में भोजन उतना ही बनायें,
कि बचने पर कभी फेकनें की नौबत ना आये।