Mai jhuk nahi skta

मैं झुक नही सकता, मैं शौर्य का अखँड भाग हूँ,
जला दे जो अधर्म की रुह को, मैं वही महादेव का दास हूँ।