Khali hath aaiye aur khali hath chale

खाली हाथ अाए अौर खाली हाथ चले। जो अाज तुम्हारा है कल अौर किसी का था परसों किसी अौर का होगा। तुम इसे अपना समझ कर मग्न हो रहे हो। बस यही प्रसन्नता तुम्हारे दु:खों का कारण है।
~ भगवान श्री कृष्ण

🌹सुप्रभातम् 🌹
🙏जय श्री राधेकृष्णा🙏