Karu kyu fikrr

करूँ क्यों फ़िक्र की मौत के बाद जगह कहाँ मिलेगी,
जहाँ होगी मेरे महादेव की महफिल मेरी रूह वहाँ मिलेगी।