Jis Jeevan ki samiksha va parakh na ki gayi ho

जिस जीवन कि समीक्षा व परख न की गई हो, वह जीने योग्य ही नहीं है |