Chal rha hu dhoop

चल रहा हूँ धूप में तो महाकाल तेरी छाया हैं,
शरण हैं तेरी सच्ची बाकी तो सब मोह माया हैं।