Bhuj gaya hai tere

बुझ गया है तेरे हुस्न का हुक्का ऐ सनम,
हम हैं कि फिर भी गुड़गुड़ाएँ जा रहे हैं।