Best Lines For Betiyaan in Hindi, Status On Beti

Best Lines For Betiyaan in Hindi, Status On Beti, beautiful-status-lines-for-girls-betiyan-lovesove

1.Journey Of Girl In Hindi

Beti Bankar aayi hoon Maa-baap ke jivan me,
Basera hoga kal mera Kisi or ke aangan me
Kyun ye reet Bhagwan ne banai hogi?
Kehte hain aaj nahi Toh kal tu parai hogi.
Deke janam paal-poskar, Jisne hamein bada kiya,
Aur waqt aaya toh unhin, Haathon ne hamein vida kiya.
Toot ke bikhar jaati hai, Hamari zindagi wahin,
Par phir bhi us bandhan me, Pyar mile zaruri to nahin.

Kyun rishta hamara, Itna ajeeb hota hai?
Kya bas yehi betiyon ka, Naseeb hota hai?
Reply Dedicated to all cute DOLLS Of Parents


2.Best Line On Betiyaan In Hindi

Bahut chanchal bahut, Khushnuma si hoti hain BETIYAAN
Nazuk sa dil rakhti hai Masoom si hoti hain BETIYAAN
Baat baat par roti hain, Nadaan si hoti hai BETIYAAN
Rehmat se bharpoor, Khuda ki nehmat hain BETIYAAN
Ghar mehak uthta hai, Jab muskrati hain BETIYAAN
Ajeeb si takleef hoti hai, Jab doosre ghar jati hain BETIYAAN
Ghar lagta hai suna suna Kitna rula ke jati hain BETIYAAN
Khushi ki jhalak, Babul ki ladli hoti hai BETIYAAN
Yeh hum nahin kehte, Yeh toh “BHAGWAN” kehta hain ke
“Jab main bahut khush hota hoon toh janam leti hain PYARI SI BETIYAAN.”


3. Hindi Quotes On Women Respect

अपने घर की इज्ज़त सब को प्यारी लगती है
गैरों की बहन बेटी क्यों अबला नारी लगती है,

दुसरो की बहन बेटी को छेड़ने में बड़ा मजा आता है
खुद की बहन बेटी को कोई देखे तो मिर्ची क्यों लगती है,

अपनी गर्ल फ्रेंड की हर बात बड़ी अच्छी लगती है
बहन का बॉय फ्रेंड बने तो क्यों दिल में आग लगती है,

किसी का बलात्कार हो जाये खबर गरम लगती है
खुद के साथ यही बीते तो क्यों फिर शर्म लगती है,

मुझ को तो हर बहन बेटी अपनी सी लगती है
बस घर को चलाने वाली लक्ष्मी सी लगती है,

इज्ज़त हर घर की एक जैसी ही होती है
बहन बेटी सब की बड़ी प्यारी सी होती है|


4.Inspiring Lindi Lines On Betiyaan

बोये जाते हैं बेटे.. पर उग जाती हैं बेटियाँ,
खाद पानी बेटों को.. पर लहराती हैं बेटियां,
स्कूल जाते हैं बेटे.. पर पढ़ जाती हैं बेटियां,
मेहनत करते हैं बेटे.. पर अव्वल आती हैं बेटियां,
रुलाते हैं जब खूब बेटे.. तब हंसाती हैं बेटियां,
नाम करें न करें बेटे.. पर नाम कमाती हैं बेटियां,
जब दर्द देते बेटे.. तब मरहम लगाती बेटियां,
छोड़ जाते हैं जब बेटे.. तो काम आती हैं बेटियां,
आशा रहती है बेटों से.. पर पुर्ण करती हैं बेटियां,
हजारों फरमाइश से भरे हैं बेटे.. पर समय की नज़ाकत को समझती बेटियां,
बेटी को चांद जैसा मत बनाओ कि हर कोई घूर घूर कर देखे…
किंतु.. बेटी को सूरज जैसा बनाओ ताकि घूरने से पहले सब की नजर झुक जाये.