Bal bhi baka

बाल भी ना बाका होएगा जब मन लागे राम राम दोहराए,
पतझड़ हैं समझ कर भूल जा देख पपीहा भी सावन की राह दिखाए।