Wo sharir hi

वो शरीर ही किस काम का, जो नाम ना ले श्याम का।