हम दुश्मनों को भी बड़ी

हम दुश्मनों को भी बड़ी शानदार सज़ा देते हैं… हाथ नहीं उठाते बस नज़रों से गिरा देते हैं