हँसता रहता हु क्यूँकि मुझे

हँसता रहता हु….क्यूँकि मुझे ‘आज’ की फ़िक्र हैं, ‘कल’ की नहीं..