वाकिफ़ तो रावण भी था

वाकिफ़ तो रावण भी था, अपने अंजाम से.. मगर ज़िद्द थी उसकी, अपने अंदाज़ में जीने की