रिवाज तो यही है दुनिया का

रिवाज तो यही है दुनिया का,
मिल जाना और बिछड़ जाना…
पर जाने तुझ से ये कैसा रिश्ता है,
ना मिलती हो ना बिछड़ती हो !