ना दुखी था वो इंसान अपनी हालातों से इतना

” ना दुखी था वो इंसान अपनी हालातों से इतना ”

” जितना यह सोचकर था कि
” दुनिया क्या कहेगी…”..