तुम भी कीसी रुठी हुई

“तुम भी कीसी रुठी हुई महेबुबा से कम नही हो इन्टरनेट,
बडी मुस्कील से गुजारे है तुमारे बीना 5-6 दीन”