जिस्म उसका भी मिट्टी का

जिस्म उसका भी मिट्टी का है मेरी तरह….!” ए खुदा “फिर क्यू सिर्फ मेरा ही दिल तडफता है उस के लिये…!”