काँटा हूँ मैं जिसे चुभ

काँटा हूँ मैं जिसे चुभ जाता हूँ उसी का हो जाता हूँ , फूल नहीं हूँ जिसे हर भंवरा चूमता फिरे