एक ख्वाइश सिरहाने रख दो ना

एक ख्वाइश सिरहाने रख दो ना,
आज मुझ पे तुम इनायत कर दो ना,
ज़रा चुपके से खामोशी से,
तुम इज़हार-ए-मोहब्बत कर दो ना!