अगर तू साथ हैं ये दोस्त

#अगर तू साथ हैं..ये दोस्त…#
#रास्तों में कितने भी काँटे सही#
#और हमें मंज़िल मिले या ना मिले#
#कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता…#