Saturday, April 4, 2020

Sher kabhi chupkar

शेर कभी छुपकर वार नहीं करते ,बुज़दिल कभी खुलकर वार नहीं करते अरे हम तो राजपूत हैं हम तो,मरके भी हार स्वीकार...

Read more

Hum rahe na rahe

हम रहे ना रहे , राजपूताना जिन्दा रहे,जिस्म ओ रूह टूटे या बिखरे जज़्बा उम्दा रहे, कोई सर झुके नहीं कोई थक...

Read more
Page 1 of 5 1 2 5