Sochne se kaha

सोचने से कहाँ मिलते हैं तमन्नाओं के शहर,
चलने की जिद भी जरुरी हैं महाकाल पाने के लिए।