Khusboo aa rhi hai

खुशबु आ रही हैं कहीँ से गांजे और भांग की,
शायद खिड़की खुली रह गयी हैं ‘मेरे महांकाल’ के दरबार की।