Chand toh apni chandani

चाँद तो अपनी चाँदनी को ही निहारता हैं,
उसे कहाँ खबर कोई चकोर प्यासा रह जाता हैं।