Aise na haar ke beth

“ऐसे ना हार के बैठ मंजिल के राही, कभी सुना है शाम सूरज ढलने के बाद फिर से निकला ना हो।”

🙏🏻🌹शुभ प्रभात 🌹🙏🏻