Yu hi yah

यू ही यह उबाल नहीं तेज भौम की स्तुति का,
नशे सारे किए मगर नशा अलग हैं गुज्जरों का।