Yaad Rakhna

याद रखना –
माँ बाप उमर से नहीं, फिकर से बूड़े होते हैं, कड़वा हैं मगर सच हैं।