Weh bulandi kis kaam ki janab jaha insaan chade aur insaaniyat utre

Weh bulandi kis kaam ki janab jaha insaan chade aur insaaniyat utre, , quote

वह बुलंदी किस काम की जनाब जहां इंसान चढ़े और इंसानियत उतरे!!!