Tag: narazgi-shayari-in-hindi

Sabhi karano ke prabhu

Sabhi karano ke prabhu

सभी कारणो के प्रमुख कारण, महायोगी, वैरागी निराकार, निर्गुण,सुंदरता की परिभाषा, और आकर्षण की पराकाष्ठा ऐसे मेरे भोलेनाथ देवो के देव महादेव को प्रणाम।
Jitni chahat hai utna naraaz bhi hun – Narazgi Shayari

Jitni chahat hai utna naraaz bhi hun – Narazgi Shayari

जितनी चाहत है उतना नाराज़ भी हू मै… क्यों तेरे इंतज़ार में यंहा आज भी हू मै… . तूम कोशिशें कर लो मुझे भुलाने की सही… पर तेरी धडकनों में कंही आज भी हू मै… …