Tag: Hindi dosti hurt touching poem

Dikhava Esme Na Zara Hai

दिखावा इसमें ना जरा है, जज्बातों से भरा है, पल मैं समझ आया हाल दिल का, रिश्ता दोस्ती का कितना खरा है!