Category: Bholenath Status

Shiv anadi hai

Shiv anadi hai

शिव अनादि हैं, अनन्त हैं, विश्वविधाता हैं,जो जन्म मृत्यू एवं काल के बंधनो से अलिप्त स्वयं महाकाल हैं।
Tera gungaan

Tera gungaan

तेरा गुणगान करूँ, तेरी ही भक्ति करूँ,तेरा सानिध्य हो अलंकरण हो, भक्ति का अनुकरण हो।
Aapke prem me

Aapke prem me

आपके प्रेम मे हम महाकाल इतने चूर हो रहे हैं,लिखते आपके बारे मे और खुद मशहूर हो रहे हैं।
Mratuy ke samay

Mratuy ke samay

मृत्यु के समय कोई तुम्हारी नही सुनेगा,कर्म की गति ही बताएगी तुम्हे कहा घसीटा जायेगा महाकाल।
Swarg me devta

Swarg me devta

स्वर्ग मे देवता भी उनका अभिनंदन करते हैं,जो हर पल महाकाल का वंदन करते हैं।