Category: Yaad Shayari

Mere bina kya apani

Mere bina kya apani

_मेरे बिना क्या अपनी ज़ुल्फ़ें संवार लोगी तुम?_ _इश्क़ हूँ, कोई ज़ेवर नहीं जो उतार लोगी तुम….!!_
Chubhte huye khuyabo se

Chubhte huye khuyabo se

चुभते हुए ख्वाबों से कह दो .. अब आया ना करे..!! हम तन्हा तसल्ली से रहते है….बेकार उलझाया ना करे..!!
Honsala lakh ho buland

Honsala lakh ho buland

हौंसला लाख हो बुलंद , धीरे धीरे टूटने लगता है …. एक एक करके जब , अपनो का साथ छूटने लगता है ..