Category: Miss You Shayari


Kabhi Haqiqat Mein Bhi

कभी हकीकत में भी बढ़ाया करो ताल्लुक हमसे, अब ख्वाबों की मुलाकातों से तसल्ली नहीं होती.