Saazish-e-sahar me muzrim ke siva koi nahi

Saazish-e-sahar me muzrim ke siva koi nahi, , sad shayari for facebook lovesove

साजिश-ए-शहर मैं मुजरिम के सिवा कोई नहीं, बस वही खतरे में है जिसकी ख़ता कोई नहीं