Naraz kyun hote ho kis bat pe ho ruthe

Naraz kyun hote ho kis bat pe ho ruthe, , deep sorry shayari lovesove

नाराज क्यूँ होते हो किस बात पे हो रूठे, अच्छा चलो ये माना तुम सच्चे
हम ही झूठे, कब तक छुपाओगे तुम हमसे हो प्यार करते, गुस्से का है बहाना
दिल में हो हम पे मरते