Na swar hai na sargam

ना स्वर हैं, ना सरगम हैं, ना लय न तराना हैं
बजरंग के चरणो में एक फूल चढ़ाना हैं।