Na chand nikla

ना चाँद निकला, ना तुमने दस्तक दी,
कितनी बोझिल है आज की ये शाम.।