Mratuy ke samay

मृत्यु के समय कोई तुम्हारी नही सुनेगा,
कर्म की गति ही बताएगी तुम्हे कहा घसीटा जायेगा महाकाल।