Kitne baar behrami se

Kitne baar behrami se, , dard shayari lovesove

कितनी बार बेरहमी से मरे हुए को तुम जलाओगे… शायद मेरा दिल अभी जला
नहीं क्योंकि उसमें तुम जो हो…