Kar diya hai befikrr

कर दिया हैं बेफिक्र तूने, फिक्र अब मैं कैसे करूँ
फिक्र तो यह हैं कि तेरा शुक्र कैसे करूँ।।
।। जय श्री श्याम।।