Kaha se laau

कहाँ से लाऊं वो शंख जो भोले को सुनाई दे,
सुबह सवेरे लोग निहारे अपनी सूरत, मुझे तो बस महादेव ही दिखाई दे।