Jis tarah vasant mein koyal ka madhur raag badha deta hai

Jis tarah vasant mein koyal ka madhur raag badha deta hai, , pehi barish shayari heart touching lovesove

जिस तरह वसंत में कोयल का मधुर राग बढ़ा देता है विरहणी के मन में
पिया मिलन की आस उसी प्रेम अगन को जगा रहा है आज तेरा प्यार तुम आए हो
जीवन में बनके बहार