Jhukane Ka Arth Yah Kadaapi Nahe Hota Ki

“झुकने” का “अर्थ” यह
“कदापि” नही होता कि
“आपने” अपना “सम्मान”
“खो” दिया
हर “कीमती” वस्तु को
“उठाने” के लिए “झुकना”
ही “पड़ता” है
“बुजुर्गो” का “आशीर्वाद” भी
इनमें से “एक” है

Good Morning Have a Nice Day