Jab sukun na mile

जब सुकून ना मिले दिखावे की बस्ती में
तब खो जाना मेरे श्याम की मस्ती में।