Jab ek roti ke

जब एक रोटी के चार टुकड़े हों और खाने वाले पाँच
तब मुझे भूख नहीं हैं ऐसा कहने वाली सिर्फ माँ होती हैं।