Hath me talwar

हाथ में तलवार हैं, वाणी की भी धार हैं,
फिर भी रहते शांत हैं, क्योंकि श्रीराम के संस्कार हैं।